Monday, April 15, 2024

होली प्रेम की वह रसधारा है, जिसमें समाज भीगता है।

बसंत दुष्ट है।उसके चाल चलन अच्छे नहीं है।बसंत काम और रति का पुत्र है, सखा भी।यह सभी वर्जनाएं तोड़ने को आतुर रहता है। इस शुष्क मौसम में काम का ज्वर बढ़ता है। विरह की वेदना बलवती होती है। तरुणाई का उन्माद प्रखर होता है।मनुष्य तो मनुष्य पेड़ पौधे भी अपने पत्ते उतार नंगे हो जाते है।यौवन हमारे जीवन का बसंत है और बसंत सृष्टि का यौवन। वसंत के आते ही जल , नभ , और थल तीनो में हलचल शुरू हो जाती है।बसंत बेपरदा है।सबके लिए खुला है। लूट सके तो लूट। कवि पद्माकर कहते हैं-‘कूलन में, केलिन में, कछारन में, कुंजन में, क्यारिन में, कलिन में, कलीन किलकंत है। बीथिन में, ब्रज में, नवेलिन में, बेलिन में, बनन में, बागन में, बगरयो बसंत है।’

बसंत में कृष्ण का मन भी विचलित होता है।उन्हे युद्ध क्षेत्र में भी  गोपियाँ, वृंदावन. कदम के पेड, तालाब में नहाती सखिया, और उनके कपड़े लेकर भागना याद आता है।तभी तो कुरुक्षेत्र में खड़े होकर भी कृष्ण कहते है – ‘ऋतूनां कुसुमाकर’  मैं ऋतुओं में वसंत हूँ ।बसंत में ऊष्मा है, तरंग है, उद्दीपन है, संकोच नहीं है। तभी तो फागुन में बाबा भी देवर लगते हैं।बसंत प्रकृति की होली है और होली समाज की।

होली प्रेम की वह रसधारा है, जिसमें समाज भीगता है। ऐसा उत्सव है, जो हमारे भीतर के कलुष को धोता है। होली में राग, रंग, हँसी, ठिठोली, लय, चुहल, आनंद और मस्ती है। इस त्योहार से सामाजिक विषमताएँ टूटती हैं, वर्जनाओं से मुक्ति का अहसास होता है, जहाँ न कोई बड़ा है, न छोटा; न स्त्री न पुरुष; न बैरी, न शत्रु। इस पर्व में व्यक्ति और समाज राग और द्वेष भुलाकर एकाकार होते हैं।

होली, बनारस, शिव, मस्ती, भंग, तरंग और ठण्डाई ये असम्पृक्त हैं।इन्हे अलगाया नहीं जा सकता। ये उतना ही सच है जितना ‘ब्रह्म सत्य जगत मिथ्या।’ बनारस की होली के आगे सब मिथ्या लगता है।आज भी लगता है कि असली होली उन शहरो में हुआ करती थी जिन्हें हम पीछे छोड़ आए हैं। ऐसी रंग और उमंग की होली जहॉं सब इकट्ठा होते, खुशियों के रंग बंटते, जहॉं बाबा भी देवर लगते और होली का हुरियाया साहित्य।जिसमें समाज राजनीति और रिश्ते पर तीखी चोट होती।दुनिया जहान के अपने ठेगें पर रखते। 

मुझे ये संस्कार बनारस से मिले हैं। शहर बदला, समय बदला मगर संस्कार कहां बदलते हैं? मैं नोएडा में भी एक बनारस इक्कठा करने की कोशिशों में लगा रहता हूं।और साल में एक बार बनारस पूरे मिज़ाज के साथ यहॉं जमा होता है। इस बार की रंगभरी एकादशी पर ऐसा ही हुआ। दोस्त, यार इकट्ठा हुए। उत्सव, मेलजोल, आनंद के लिए। खाना पीना तो होता ही है। मगर सबसे अहम था कुछ देर के लिए ही सही मित्रो का साथ साथ होना और साथ साथ जीना।ऋग्वेद भी कहता है “संगच्छध्वं संवदध्वं सं वो मनासि जानताम।” अर्थात हम सब एक साथ चलें। आपस मे संवाद करें। एक दूसरे के मनो को जानते चलें। 

फाल्गुन  शुक्ल पक्ष की एकादशी, रंगभरी एकादशी होती है। कथा है कि शिवरात्रि पर विवाह के बाद भगवान शिव ससुराल में ही रह गए थे। रंगभरी को उनका गौना होता है। गौरी के साथ वे अपने घर लौटते है और अपने दाम्पत्य जीवन की शुरूआत होली खेल कर करते है। इसीलिए काशी विश्वनाथ मंदिर में रंगभरी से ही बाबा का होली कार्यक्रम शुरू होता है।उस रोज़ मंदिर में होली होती है। दूसरे रोज़ महाश्मशान में चिता भस्म के साथ होली खेली जाती है। शिव यहीं विराजते हैं। सो उत्सव के लिए इससे अधिक समीचीन दूसरा मौका कहॉं  होगा!  वैसे भी होली समाज की जड़ता और ठहराव को तोड़ने का त्योहार है। उदास मनुष्य को गतिमान करने के लिए राग और रंग जरूरी है—होली में दोनों हैं। यह सामूहिक उल्लास का त्योहार है। परंपरागत और समृद्ध समाज ही होली खेल और खिला सकता है। रूखे,बनावटी आभिजात्य को ओढ़नेवाला समाज और सांस्कृतिक लिहाज से दरिद्र व्यक्ति होली नहीं खेल सकता। वह इस आनंद का भागी नहीं बन सकता। साल भर के बंधनों, कुंठा और भीतर जमी भावनाओं को खोलने का ‘सेफ्टी वॉल्व’ है होली। 

पिछले छब्बीस सत्ताईस बरस से मैं होली के बहाने मित्रों को इक्कठा करता हूँ। बनारस में था तो घर में रंगभरी होती थी।लखनऊ आया तो वहॉं भी हर बरस रंगभरी का सिलसिला टूटा नही।लखनऊ में भी खानपान और संगीत बनारस का ही होता था।पं छन्नूलाल मिश्र सहित कई गायक इस जमावड़े में गा चुके हैं। जब दिल्ली आया तो यहॉ उस आत्मीयता की जड़ें सूखी मिली जो बनारस या लखनऊ में मिलती थी।मेरे लिए ये एक सांस्कृतिक झटका था। मगर मेरा आयोजन जारी रहा। एकाध बार व्यस्तता और एक साल कोरोना के कारण सिलसिला टूटा।रंगभरी के आयोजन का समय बदला, पर स्वाद नहीं।हमारी संस्कृति में उत्सव कलाओं को शोकेस करते हैं। सो इस मौक़े पर पूरब अंग का गायन भी हुआ। होरी भी गाई गई और लोकगीतों के मोती भी बिखरे। पद्मश्री @soma ghosh,पद्मभूषण Sajan Mishra  ,उनके प्रतिभाशाली बेटे स्वरांश मिश्र, महाकवि Dr. Kumar Vishwas ,ने मिलकर इस उत्सव लोक को जीवन में उतार दिया। 

अगर आप वसंत की इस उत्सवी परम्परा को आत्मसात् नहीं करते तो आप समाज के मांगल्य को चुनौती देते है। आप इसका स्वागत करिये या न करिये यह आपकी जान नही छोड़ेगा।वसंत का यह महौल किसी को  नही छोड़ता , चर अचर , जलचर , नभचर , सब को लपेटता है । पूरे प्रकृति को तहस नहस करता है । ऋषि मुनि भी इसके चपेटे में आ गए ।इस मस्ती का जितना  दबाएगें उतना ही विस्तार होगा ।क्यों कि यह कामदेव का सखा बसन्त । बिहारी कह गए हैं “ तंत्री नाद कवित्त रस सरस राग रति रंग, अनबूडे बूडे ,तिरे ज्यों बूडे सब अंग। इसलिए तनाव छोड़िए, उन्मुक्त होईए,अपने मन और मिज़ाज को स्वच्छन्द कीजिए , समष्टि का आलिंगन कीजिए ।ज्यों बूडे सब अंग,  यही कहती है रंगभरी।  

रंगभरी एकादशी के मूल में उत्सव की परंपरा है सो आयोजन के हर पहलू को परंपराओं से लबालब होना चाहिए। कोशिश रही कि एक दिन के लिए सही, बनारस के जायके को दिल्ली की जुबान पर लाया जाए।सो पार्टी में बनारस के दीना की मशहूर चाट से लेकर पाठकजी की पंचरतनी तक सब मौजूद था। ठण्डाई  को ही पंचरतनी कहते हैं वजह इसमें पॉंच भयंकर चीजें मिलाई जाती है।पंचरतनी में  भॉंग, काली मिर्च, तूतिया, धतूरा, शंखिया जैसे पॉच प्रचण्ड अवयव होते है।पारम्परिक ठण्डाई में पॉंच वेजेटेबिल लौकी, खीरा,खरबूज, तरबूज़ और कोहडे के बीज भी होते हैं। इन पंचरतनो के साथ ठंडाई का मूल आनंद मिले इसलिए मैंने बनारस से ठंडाई वालों को बुलाया था।सैकड़ों बरस से जिनका यह पुश्तैनी काम है। बनारसी ठसक कायम रखने के लिए ये ठंडाई वाले कोल्डचेन में सुरक्षित दूध और मलाई भी बनारस से ही लाए थे। ठंडाई और भांग का एक अद्बुत आपसी मेल है। भॉंग की तासीर को ठंडा करने के लिए ठंडाई की खोज  हुयी। इसकी भी एक कथा है। जब समुद्र मंथन हुआ तो उसमें से निकला विष भगवान शिव ने पीकर अपने गले में धारण कर लिया था।। हलाहल विष से उन्हें बहुत गर्मी लगने लगी शरीर नीला पड़ना शुरू हो गया।फिर भी शिव पूर्णतः शांत थे तब देवताओं और वैद्य शिरोमणि अश्विनी कुमारों ने भगवान शिव की तपन को शांत करने के लिए उन्हें जल चढ़ाया और विष का प्रभाव कम करने के लिए विजया (भांग का पौधा), बेलपत्र और धतूरे को दूध में मिलाकर (ठंडाई) भगवान शिव को औषधि रूप में पिलाया। इससे वे विष की गर्मी भी झेल गए थे। तभी से ठंडाई में भांग मिलाकर शिव को भोग लगाते है।तभी तो रंगभरी के उत्सव में आए सबने छक कर पी। 

रंगभरी के प्रचण्ड आयोजन में विजया, पंचरतनी, मुनक्का, षडरस, रसरंजन का चौचक  इंतज़ाम था। लोगों ने इस स्वाद  का झमाझम आनन्द भी लिया । हमारी परम्परा में चाट षड रसों का घनीभूत स्वाद है। षड-रस में मधुर, अम्ल, लवण, कटु, तिक्त, कषाय समेत समस्त प्रकार के रस विद्यमान थे। कोई भी भोजन हो, इन छहों रसों की उपस्थिति होनी चाहिए।चाट के साथ ‘रसरंजन’ का भी इंतजाम था। कॉकटेल के लिए रसरंजन नाम नामवर जी के परामर्श से स्वर्गीय डीपी त्रिपाठी ने गढ़ा था।’रसरंजन’ हिन्दी साहित्य में डीपी त्रिपाठी का अवदान है। वे इस आयोजन के स्थायी भाव होते थे।उनकी बहुत याद आई।

खानपान की इस परंपरा का एक सनातन विमर्श भी है। शिव को भंग पसंद है।वे हमेशा उसकी तरंग में रहते है।इसलिए बिना भंग कैसी रंगभरी। तभी तो भारतीय वॉंग्मय में भॉंग का दूसरा नाम शिव प्रिया और विजया भी है। शिवजी को प्रिय भांग औषधीय गुणों से भरी पड़ी है। अंग्रेज़ी में इसे कैनाबीस बीड कहते है। जिसमें टेट्रा हाइड्रोकार्बन बिनोल पाया जाता है। आयुर्वेद के अनुसार कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, मैंगनीज, विटामिन ई, मैग्‍नीशिम एवं फास्‍फोरस समेत कई पोषक तत्व होते हैं। इसे सही मात्रा में लेने से कोलेस्ट्राल नियंत्रित रहता है। क्योंकि भॉंग खून को प्यूरिफाई करने का काम करता है।ऋग्वेद और अथर्ववेद दोनों में इसका ज़िक्र है।

अथर्ववेद में जिन पांच पेड़-पौधों को सबसे पवित्र माना गया है उनमें भांग का पौधा भी शामिल है. इसे मुक्ति, खुशी और करुणा का स्रोत माना जाता है। इसके मुताबिक भांग की पत्तियों में देवता निवास करते हैं. अथर्ववेद इसे ‘प्रसन्नता देने वाले’ और ‘मुक्तिकारी’ वनस्पति का दर्जा देता है – 

पञ्चराज्यानिवीरुधांसोमश्रेष्ठानिब्रूमः।

दर्भोभङ्गोयवःसहतेनोमुञ्चन्त्व्अंहसः॥

पॉंच पौधों में सोम श्रेष्ठ है  ऐसी औषधियों के पांच राज्य, दर्भ, (भङ्ग) भांग, (यवः) जौ और (महः) बलशाली धानको (ब्रूमः) हम कहते हैं कि वे हम सबको पापसे बचावे। कहते हैं भांग और धतूरे के सेवन से ही भगवान शिव हलाहल विष के प्रभाव से मुक्त हुए थै। इसलिए शंकर को भंग पंसद है।

होली, ठंडाई, और बनारस .. ये महज तीन शब्द नहीं, बल्कि जीवन जीने की कला हैं। इसमें कला भी है, साहित्य भी, विज्ञान और अध्यात्म भी। यहां बरसों से आबाद ठंडाई की दुकानें सत्ता-साहित्य से जुड़े लोगों का अड्डा रही हैं। जयशंकर प्रसाद और रूद्र जी तो बिना भंग की तंरग के सृजन के आयाम ही नहीं खोलते थे।बनारस का मुनक्का प्रसिद्ध है। मुनक्का का सेवन स्वास्थ्यवर्धक होता है।मुनक्के में काजू किसमिस पिस्ता बादाम का पेस्ट और उसी अनुपात में भॉंग होती है। बहुत ही स्वादिष्ट। भॉंग का भाषा की शुद्धता से भी कोई रिश्ता है क्यों कि हिन्दी का पहला व्याकरण लिखने वाले कामता प्रसाद गुरू , संस्कृतनिष्ठ हिन्दी के प्रवर्तक महाकवि जयशंकर प्रसाद, कथाकार रूद्र काशिकेय, महाप्राण निराला और अपने संपादक राहुलदेव जी सभी को भांग पसंद है। 

होली में हमें बनारस का अपना मुहल्ला याद आता है। महानगरों से बाहर निकले तो गाँव, कस्बों और मुहल्ले में ही फाग का राग गहरा होता था। मेरे बचपन में मोहल्ले के साथी घर-घर जा गोइंठी (उपले) माँगते थे। जहाँ माँगने पर न मिलती तो उसके घर के बाहर गाली गाने का कार्यक्रम शुरू हो जाता। मोहल्ले में इक्का-दुक्का घर ऐसे जरूर होते थे, जिन्हें खूब गालियाँ पड़तीं। जिस मोहल्ले की होलिका की लपट जितनी ऊँची उठती, उतनी ही उसकी प्रतिष्ठा होती। फिर दूसरे रोज गहरी छनती। होलिका की राख उड़ाई जाती। मेरे पड़ोसी ज्यादातर यादव और मुसलमान थे, पर होली के होलियारे में संप्रदाय कभी आड़े नहीं आता था। सब साथ-साथ इस हुड़दंग में शामिल होते। अनवर भाई भी वैसे ही फाग खेलते जैसे पं. गिरधर गोपाल। जाति, वर्ग और संप्रदाय का गर्व इस मौके पर खर्च हो जाता।

हमारा साहित्य और संगीत दोनो होली वर्णन से पटे पड़े हैं। उत्सवों-त्योहारों में होली ही एकमात्र ऐसा पर्व है, जिस पर साहित्य में सर्वाधिक लिखा गया है। पौराणिक आख्यान हो या आदिकाल से लेकर आधुनिक साहित्य, हर तरफ कृष्ण की ‘ब्रज होरी’ रघुवीरा की ‘अवध होरी’ और शिव की ‘मसान होली’ का जिक्र है। राग और रंग होली के दो प्रमुख अंग हैं। सात रंगों के अलावा, सात सुरों की झनकार इसके हुलास को बढ़ाती है। गीत, फाग, होरी, धमार, रसिया, कबीर, जोगिरा, ध्रुपद, छोटे-बड़े खयालवाली ठुमरी, होली को रसमय बनाती है। उधर नजीर से लेकर नए दौर के शायरों तक की शायरी में होली के रंग मिल जाते हैं। नजीर अकबराबादी होली से अभिभूत हैं—‘जब फागुन रंग झमकते हों, तब देख बहारें होली की जब डफ के शोर खड़कते हों, तब देख बहारें होली की।’

वैदिक काल में इस पर्व को नवान्नेष्टि कहा गया, जिसमें अधपके अन्न का हवन कर प्रसाद बाँटने का विधान है। मनु का जन्म भी इसी रोज हुआ था। अकबर और जोधाबाई तथा शाहजहाँ और नूरजहाँ के बीच भी होली खेलने का वृत्तांत मिलता है। यह सिलसिला अवध के नबावों तक चला। वाजिद अली शाह टेसू के रंगों से भरी पिचकारी से होली खेला करते थे।

बौद्ध साहित्य के मुताबिक एक दफा श्रावस्ती में होली का ऐसा हुड़दंग था कि गौतम बुद्ध सात रोज तक शहर में न जा बाहर ही बैठे रहे। परंपरागत होली टेसू के उबले पानी से होती थी। सुगंध से भरे लाल और पीले रंग बनते थे। अब इसकी जगह गोबर और कीचड़ ने ले ली है। हम कहाँ से चले थे, कहाँ पहुँच गए? सिर चकरानेवाले कैमिकल से बने गुलाल, चमड़ी जलानेवाले रंग, आँख फोड़नेवाले पेंट, इनसे बनी है आज की होली।

साहित्य में होली हर काल में रही है। सूरदास, रहीम, रसखान, मीरा, कबीर, बिहारी हर कहीं होली है। होली का एक और साहित्य है—हास्य व्यंग्य का। बनारस, इलाहाबाद और लखनऊ की साहित्य परंपरा इससे अछूती नहीं है। इन हास्य गोष्ठियों की जगह अब गाली-गलौजवाले सम्मेलनों ने ले ली है। जहाँ सत्ता प्रतिष्ठान पर तीखी टिप्पणी होती है। हालाँकि ये सम्मेलन अश्लीलता की सीमा लाँघते हैं, लेकिन चोट कुरीतियों पर करते हैं।

होली उश्रृंखलता का उत्सव नहीं है। वह व्यक्ति और समाज को साधने की भी शिक्षा देता है यह सामाजिक विषमताओं को दूर करने का भी त्योहार है। बच्चन कहते हैं—‘भाव, विचार, तरंग अलग है, ढाल अलग है, ढंग अलग, आजादी है, जिसको चाहो आज उसे वर लो। होली है तो आज अपरिचित से परिचय कर लो।’ फागुन में बूढ़े बाबा भी देवर लगते थे। वक्त बदला है! आज देवर भी बिना उम्र के बूढ़ा हो शराफत का उपदेश देता है। अब न भीतर रंग है न बाहर। होली मेरे बालकों का कौतुक है या मयखाने का खुमार। कहाँ गया वह हुलास, वह आनंद और वह जोगिरा सा रा रा रा! कहाँ बिला गई है फागुन की मस्ती! इसे खोजने की कोशिश कर रहा हूँ। रंगभरी एकादशी के इस उत्सव के बहाने एक बार फिर से इसी बिछड़ी हुई विरासत से मुलाकात हुई। प्रेम बढ़ा। अपनापा गहराया। परंपराएं मिलीं। संस्कार खिले। स्मृतियों के गलियारे से फिर बसंत उतरा। इसी उम्मीद के साथ फिर अगले साल।

आप सबको होली की फाल्गुनी शुभकामनाएं।

पुनश्च: मैं  भंग की तरंग में  कुछ ज़्यादा लिख गया।

(हेमंत शर्मा हिंदी पत्रकारिता में रोचकता और बौद्धिकता का अदभुत संगम है।अगर इनको पढ़ने की लत लग गयी तो बाक़ी कई छूट जाएँगी।इनको पढ़ना हिंदीभाषियों को मिट्टी से जोड़े रखता हैं।फ़िलहाल TV9 चैनल में न्यूज़निर्देशक के रूप में कार्यरत हैं।)

Read More

Support Us
Contribute to see NewsBred grow. And rejoice that your input has made it possible.