Friday, December 9, 2022

AUTHOR

Hemant Sharma

दिवाली में खेला गया जुआ व्यसन नही अनुष्ठान है

अगर ज़िन्दगी जुआ है।दुनिया इक सतरंगी चौसर है।और हम हर साँस पर दांव लगाते हैं। कोविड के बाद तो ऐसा ही है।तो फिर जुए( द्यूत...

क्या विडम्बना है: लोग लक्ष्मी का आवाहन करते हैं; पर उल्लू से बचते हैं! 

अब मैं उल्लू बनना चाहता हूँ।ताकि लक्ष्मी मेरी सवारी कर सकें। उल्लू पर सवार होकर ही लक्ष्मी आती है।लक्ष्मी और उल्लूपन में चोली दामन...

जब राम की लंका विजय के यज्ञ के आचार्य खुद रावण बने!

किसी भी उत्सव को मनाने के लिए ज़रूरी है आपके भीतर का बचपन जिन्दा हो।इसलिए उम्र कोई हो अपना बचपन बचाए रखिए।नहीं तो आप...

गणेश चतुर्थी: जीवन में शुभ और अशुभ की फिसलन में संतुलन ही गणेश है। 

गणेश शुभांकर हैं। विघ्नहर्ता हैं। कुशल प्रबंधक हैं। आदि लेखक हैं।सृष्टि के पहले लिपिकार हैं।शास्त्रों के ज्ञाता हैं।ऋद्धि और सिद्धि उनकी पत्नी है।शुभ यानी...

“पंडित कुछ करो। जो कर रहे हो, वह पत्रकारिता नहीं है।”

निर्भयनिर्गुण ,गुणरेगाऊँगा प्रभाष जी आज होते तो चौरासी बरस पूरा कर पिचास्वी में होते (जन्मदिवस: १५ जुलाई, १९३६)। देश की मौजूदा समस्याओं पर उनकी दृष्टि...

ये राम का देश है; जिसमें रम गए वही राम है ।

ये राम का देश है। यहां कण कण में राम हैं। भाव की हर हिलोर में राम हैं। कर्म के हर छोर में राम...

”देखो हमरी काशी” : वो बनारसी जो समूची दुनिया को ठेंगे पे रखते हैं।

(तो छप कर आ ही गयी ”देखो हमरी काशी”। ये हेमंत शर्मा की इतवारी कथा का संकलन है। संकलन ऐसा की आप में बार...

“गंडासा गुरू की शपथ” : ’रागदरबारी’ और ‘आधा गांव’ की क़तार की रचना

बनारस के पानी में ही किस्सागोई है। कुन्दन यादव सिर्फ़ बनारसी ही नहीं, बल्कि दास्तानगोई के उस्ताद भी हैं। उनके ताज़ा कहानी संग्रह की...

बिरजू महराज : उनका जाना मानो संगीत की असाध्य वीणा ही टूट गई

बिरजू महराज का जाना जैसे संगीत की दुनिया में वज्रपात सा हो गया हो। कथक के पॉंव थम गए। घुँघरू टूट गए। सुर मौन...

हिन्दू धर्म के मर्म को समझिए और हिन्दुत्व पर कृपा कीजिए

हिन्दुत्व को लेकर जंग छिड़ी है। ‘हिन्दुत्व’ राजनीति के दुश्चक्र में फंस गया है। एक तरफ़ हाहाकारी हिन्दुत्ववादी हैं और दूसरी ओर “मैं हिन्दू...

Top Stories

Latest news

Support Us
Contribute to see NewsBred grow. And rejoice that your input has made it possible.