Saturday, January 29, 2022

TAG

काशी विश्वनाथ

समय ठहरता नही। अगर ठहरता है तो सिर्फ़ स्मृतियों में: उम्र ६०; फ़लसफ़ा अनंत

संन्यस्तं मया संन्यस्तं मया संन्यस्तं मयेति त्रिरुक्त्वाभयं सर्वभूतेभ्यो मत्तः सर्वं प्रवर्तते- मैने संन्यास लिया, मैंने संन्यास लिया, मैंने संन्यास लिया, आरूणेय उपनिषद के इस श्लोक के...

Voices

174 POSTS0 COMMENTS
125 POSTS0 COMMENTS
Support Us
Contribute to see NewsBred grow. And rejoice that your input has made it possible.